कोटेदार की घटतौली की खुली पोल तो उसने भी लगाये गंभीर आरोप - Pratapgarh Samachar

Breaking

गुरुवार, 24 अगस्त 2017

कोटेदार की घटतौली की खुली पोल तो उसने भी लगाये गंभीर आरोप


प्रतापगढ़  पट्टी नगर से सटे कुन्दनपुर गाँव का है जंहा पर कई सालो से कोटेदारी पर कब्जा जमाये शख्स को किसी से भी डर नहीं लगता है। ग्रामीणों के हिस्से का अनाज वह खुलेआम डकार जाता है और लोगो को अनाज मांगने पर फटकार कर भगा देता है। कई बार शिकायत हुई लेकिन मामला ढाक के तीन पात ही साबित हुआ। ग्रामीणों पर जुल्म की दास्तान बदस्तूर जारी है। अगर कोई मामले की शिकायत करता है तो उसे कोटेदार झूठे मामले में मुकदमे की धमकी देता है। परिणाम यह होता है की सभी शिकायत करने से पीछे हट जाते है। अत्याचार की हदे पार हुई तो गाँव के ही महेन्द्र यादव ने घटतौली की शिकायत की। आपूर्ति निरीक्षक पहुंचे। इसी से खिन्न कोटेदार ने महेन्द्र यादव सहित दो लोगो के खिलाफ रंगदारी और धमकी की झूंठी शिकायत कर दी कोटेदार जीतलाल द्वारा पट्टी कोतवाली में महेन्द्र यादव,जितेन्द्र यादव(मुलायम),नन्दन चतुर्वेदी तथा उमेश मौर्या के खिलाफ प्रार्थना पत्र दिया है।कोटेदार जीतलाल का आरोप लगाया है कि उक्त लोग हर माह पांच हजार रूपये रंगदारी की मांग करते है और धमकी देते है कि यदि हर माह पांच हजार रुपये नही मिले तो प्रार्थनापत्र देकर तुम्हारा कोटा निरस्त करवा दूंगा।गौरतलब है कि 2 जुलाई 2015 को जीतलाल के साथ तीन हजार रूपये की लूट तथा इनके ऊपर जानलेवा हमला भी हुआ था,जिसमें पट्टी कोतवाली में महेन्द्र यादव,जीतेन्द्र यादव(मुलायम)तथा दो अज्ञात के खिलाफ मामला भी दर्ज करा दिया । जिससे  शिकायतकर्ता कभी भविष्य में उसके विरुद्ध शिकायत न करे। अब मामला पुलिस और प्रशासन के पास है। जहाँ न्याय अटका पड़ा है। अब देखना है की शिकायत के बाद कोटा निरस्त होता है या फिर एक बार कोटेदार अपने नापाक इरादों से शिकायतकर्ता को झूठे आरोप के मकड़जाल में उलझा देता है। इसके पहले भी जब महेन्द्र यादव ने इसकी शिकायत की थी तो कोटेदार ने एसटीएससी एक्ट के तहत झूठी शिकायत करते हुए महेन्द्र यादव के छोटे भाई जितेन्द्र पर फर्जी मुकदमा करा दिया था ।