छलका राजा भइया का दर्द, कहा न्याय मिलने में 15 साल लग गए - Pratapgarh Samachar

Breaking

गुरुवार, 28 दिसंबर 2017

छलका राजा भइया का दर्द, कहा न्याय मिलने में 15 साल लग गए


प्रतापगढ़, प्रतापगढ़ जिले के हर घर में मशहूर और पूरे देश में एक सरकार से लड़ने वाले के तौर पर प्रसिद्ध कुंडा के वर्तमान विधायक और पूर्व कैबिनेट मंत्री कुंवर रघुराज प्रताप सिंह (राजा भईया) के पिता की करोड़ों रुपये की राजमहल की पुश्तैनी हीरे-जवाहरात व आभूषणों की सम्पति कोषागार से रिलीज़ होने के बाद जब एक टीवी चैनल ने उनका व्यक्तव्य जानना चाहा तो कुशलता से अपने विचारों को मीडिया के सामने अपनी बात रखने वाले कुंडा विधायक राजा भइया का दर्द छलक गया।
राजा भइया ने अपनी बात रखते हुए कहा मुझे इस बात का कतई मलाल नहीं है कि 15 सालों में हमारी संपत्ति हमें वापस मिली, मगर कहीं ना कहीं मैं इस बात से दुःखी हुआ कि न्याय मिलने में 15 साल लग गए। यदि जल्द न्याय मिलता तो अच्छा रहता। पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने अपने कार्यकाल के दौरान अपनी व्यक्तिगत रंजिश को लेकर मेरे ऊपर कार्यवाही कारवाई। मेरे और मेरे पिता के ऊपर आतंकवादियों के लिए बने कानून पोटा के तहत कार्यवाही की गयी थी। उस समय मायावती सरकार सोचती नहीं थी बस करती थी। मायावती सरकार का विवेक शून्य था। इस वापस मिली संपत्ति में मेरे पूर्वजों के पुराने गहने थे इसलिए इनसे एक भावनात्मक लगाव था।

   प्रतापगढ़ समाचार डॉट कॉम पर आपने पढ़ा भी होगा कि मंगलवार को राजा भइया के पिता राजा उदय प्रताप सिंह की जिला कोषागार से 1 करोड़ सात लाख की संपत्ति रिलीज की गई थी। इस तरह से सरकार द्वारा संपत्ति वापस मिलने पर कुंडा ही नहीं अपितु पूरे प्रतापगढ़ में मिठाई बांटी गई। लोगों को इस बात की खुशी नहीं थी कि उनके विधायक को संपत्ति वापस मिली है बल्कि सब यह कह रहे थे कि सत्य कभी पराजित नहीं होता है। मतलब साफ था राजा भइया के खिलाफ मायावती सरकार द्वारा किये गये हर कृत की लोग निंदा ही कर रहे थे।