कुपोषण मुक्त ग्राम एवं मेरी सहेली योजना की बैठक सम्पन्न - Pratapgarh Samachar

Breaking

गुरुवार, 11 जनवरी 2018

कुपोषण मुक्त ग्राम एवं मेरी सहेली योजना की बैठक सम्पन्न



राज्य पोषण मिशन के अन्तर्गत कुपोषण मुक्त ग्राम एवं सेनेटरी नैपकिन वितरण हेतु जिलाधिकारी शम्भु कुमार की अध्यक्षता में आज हादीहाल सभागार में बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में जिलाधिकारी ने गोद लिये गांवों के समस्त अधिकारी, बाल विकास परियोजना अधिकारी, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत अधिकारी, ए0एन0एम0, आंगनबाड़ी कार्यकत्री एवं आशाओ को निर्देशित करते हुये कहा कि जनपद में कुपोषण की रोकथाम हेतु मातृ शिशु मृत्यु दर व मातृ बाल कुपोषण में कमी लाते हुये गोद लिये 100 ग्रामों को कुपोषण मुक्त ग्राम बनाने का लक्ष्य मार्च 2018 तक निर्धारित किया गया है। उन्होने कहा कि किसी कार्य को सफल बनाने के लिये सबसे पहले लक्ष्य बनाकर कार्य का निर्धारण करना चाहिये, उसके बाद समय का निर्धारण करना चाहिये। तत्पश्चात् कार्य की सफलता हेतु आपस में समन्वय स्थापित करना चाहिये। आंगनबाड़ी कार्यकत्री, आशा व ए0एन0एम0 में यदि समन्वय स्थापित हो जाये तो प्रदेश सरकार एवं केन्द्र सरकार द्वारा संचालित अनेक प्रकार की योजनाओ का लाभ गरीब व्यक्ति को आसानी से उपलब्ध हो सके जैसे जननी सुरक्षा योजना, कुपोषण, टीकाकरण आदि का कार्य शत् प्रतिशत सम्पन्न हो सकता है। गांव को कुपोषण मुक्त बनाने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका आंगनबाड़ी कार्यकत्री, ए0एन0एम0, आशा की होती है। आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को निर्देशित करते जिलाधिकारी ने कहा कि उनके द्वारा जो रजिस्टर बनाया जाये उसमें लाभार्थी के नाम के साथ मोबाईल नम्बर, आधार नम्बर, बैंंक खाता नम्बर अवश्य दर्ज हो जिससे कि जननी सुरक्षा योजना का लाभ लाभार्थी को प्राप्त हो सके। अपने सम्बोधन में जिलाधिकारी ने कहा कि ‘‘मेरी सहेली’’ योजनान्तर्गत महिलाओं और किशोरियो में माहवारी के दौरान साफ-सफाई की आदते विकसित करने के उद्देश्य से सिनेटरी नैपकिन का वितरण किये जाने की योजना है। इस कार्यक्रम को सर्वप्रथम राज्य पोषण मिशन के अन्तर्गत गोद लिये 100 ग्रामों में क्रियान्वित किया जायेगा जिसके अन्तर्गत दिनांक 15 जनवरी 2018 को आंगनबाड़ी केन्द्रों पर गोद लिये जिला स्तरीय अधिकारी के देखरेख में ग्राम प्रधान, आशा एवं कार्यकत्रियों के द्वारा चिन्हित 30 महिलाओं व किशोरियो को निःशुल्क सेनेटरी नैपकिन का वितरण उनके समक्ष किया जायेगा। तत्पश्चात् दूसरे माह में 5 रू0 की दर से व तीसरे माह में 10 रू0 की दर से व चौथे माह में पूर्ण मूल्य 20 रू0 की दर से आशा एवं कार्यकत्री द्वारा विक्रय किया जायेगा। उक्त सेनेटरी नैपकिन पंचायत उद्योग प्रतापगढ़ द्वारा दिशा नाम से बनाया जाता है। उन्होने यह भी बताया कि जिस ग्राम प्रधान, पंचायत अधिकारी, आशा, ए0एन0एम0, आंगनबाड़ी कार्यकत्री द्वारा कुपोषण मुक्त ग्राम बनाने में सराहनीय प्रयास किया जायेगा उसे जनपद स्तर पर सम्मानित किया जायेगा। इसके अतिरिक्त इनको चिन्हित कर प्रदेश स्तर से भी सम्मानित करने के लिये इनका नाम भेजा जायेगा। जिलाधिकारी द्वारा हादीहाल प्रांगण में लगी मॉडल आंगनबाड़ी केन्द्र एवं मॉडल उप स्वास्थ्य केन्द्र प्रदर्शनी का भी अवलोकन किये। 
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी


राजकमल यादव ने सभी को सम्बोधित करते हुये कहा कि इस कार्यक्रम में जितने भी लोग जुड़े हुये है गरीबो के हित, गांव के उत्थान के लिये पूरी तन्मयता के साथ इस लक्ष्य की प्राप्ति में सहयोग करें जिससे कुपोषण मुक्त गांव का सपना पूर्ण हो सके। अन्त में जिला कार्यक्रम सन्तोष कुमार श्रीवास्तव ने जिलाधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी, समस्त गोद लिये जिला स्तरीय अधिकारी, समस्त बाल विकास परियोजना अधिकारी, आशा, ए0एन0एम0, ग्राम प्रधान, आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया और उन्होने यह भी कहा कि ‘‘गांव को स्वच्छ बनाना है, गांव को कुपोषण मुक्त कराना है’’ यह हम लोगों
का प्रमुख लक्ष्य है।