116 जोड़े परिणय सूत्र में बंधे, धूम धाम से हुई शादी, प्रतापगढ़ को मिला उत्तर प्रदेश में सबसे पहले मौका - Pratapgarh Samachar

Breaking

सोमवार, 5 फ़रवरी 2018

116 जोड़े परिणय सूत्र में बंधे, धूम धाम से हुई शादी, प्रतापगढ़ को मिला उत्तर प्रदेश में सबसे पहले मौका

मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत उत्तर प्रदेश में पहले जनपद के रूप में प्रतापगढ़ को रविवार को वह गौरव प्राप्त हुआ जिसमें गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले कुल 116 जोड़े परिणय सूत्र में बंधे जिनमें 03 जोड़े मुस्लिम परिवार से सम्बन्धित थे। जी.आई.सी. के प्रांगण में एक भव्य पण्डाल के रूप में कुल 60 विवाह मण्डप सजाये गये थे और हर मण्डप में दो-दो जोड़ो का पूरे विधि विधान के तहत शादी अनुष्ठान सम्पन्न हुआ। प्रत्येक मण्डप में एक-एक आचार्य और तीन जोड़ो को मुस्लिम विवाह के रीति रिवाजों के तहत मौलवी द्वारा निकाह कराया गया।
प्रातः 8 बजे से ही पूरा जी.आई.सी. प्रांगण विवाह के रौनक के वातावरण में सराबोर था। ठीक 9 बजे हर मण्डप में पण्डित आचार्य विवाह के पूरे सामान सहित उपस्थित हो गये थे। मुख्य पण्डाल के मंच पर कुल 08 आचार्य पूरे शादी अनुष्ठान को केन्द्रित रूप में सम्पन्न करा रहे थे। ठीक 11 बजे द्वार पूजा की रस्म पूर्ण हुई और इसके बाद हर मण्डपों में विवाह अनुष्ठान प्रारम्भ हो गया। कुल 12 सेक्टर आफिसर जिला प्रशासन द्वारा तैनात किये गये थे जिनके जिम्मे 5-5 मण्डप दिये गये थे जहां कि सम्पूर्ण व्यवस्था का दायित्व सेक्टर आफिसर को दिया गया था।
जिलाधिकारी शम्भू कुमार अपनी पत्नी डा. स्निग्धा रश्मि के साथ इस पूरे वैवाहिक अनुष्ठान में कन्यादान की भूमिका निभायी। प्रारम्भ में जिलाधिकारी ने अपने उद्बोधन में मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के बारे में विस्तार से प्रकाश डालते हुये कहा कि मुख्यमंत्री की इस महत्वाकांक्षी योजना की जितनी तारीफ की जाये कम है। इस योजना के तहत गरीबी रेखा से नीचे जीवन बसर करने वाले परिवार पात्रता की श्रेणी में आते है जिनकी शादी के लिये कन्या को 20000 रू0 का अनुदान सीधे उनके खाते में जमा कराया जाता है जबकि 10000 रू0 का उपहार प्रदान किया जाता है।
उन्होने योजना की तारीफ करते हुये कहा कि सामाजिक समरसता की दिशा में यह योजना वरदान सावित होगी। यह अनवरत चलने वाली प्रक्रिया है और जब भी विकास खण्ड स्तर पर 10 जोड़ों का पंजीकरण पूरा होगा तो सामूहिक विवाह का अनुष्ठान सम्पन्न करा दिया जायेगा। उन्होने कहा कि जनपद प्रतापगढ़ को आज यह गौरव प्राप्त हो गया कि वह प्रदेश में प्रथम जनपद है जहां सामूहिक विवाह योजना के तहत कार्यक्रम सम्पन्न कराया गया।
जिलाधिकारी ने इस अवसर पर अपने उद्बोधन में यह घोषणा किया कि सामूहिक विवाह के तहत परिणय सूत्र में बंधने वाले जोड़ों को प्राथमिकता के आधार पर प्रधानमंत्री आवास योजना से लाभान्वित किया जायेगा। इसके अलावा प्रधानमंत्री उज्जवला योजना और स्वच्छ भारत मिशन के तहत शौचालय की सुविधा भी इन जोड़ो को प्रदान की जायेगी। इतना ही नही सरकारी क्षेत्र की देय सुविधाओ में इन जोड़ो को प्राथमिकता प्रदान की जायेगी। इस कार्यक्रम में विधायकगणों द्वारा और अन्य सम्मानित जनप्रतिनिधियो तथा समाज के गणमान्य नागरिकों द्वारा दिये गये सहयोग के लिये उन्होने इनकी जमकर तारीफ की। उल्लेखनीय है कि इन जोड़ो के लिये विधायक सदर संगम लाल गुप्ता ने एक-एक प्रेशर कुकर की सुविधा जहां उपलब्ध करायी वहीं विधायक रानीगंज श्री धीरज ओझा ने कुल 25000 रू0 और नगर पालिका परिषद बेल्हा की नवनिर्वाचित अध्यक्ष श्रीमती प्रेमलता सिंह ने 21000 रू0 की सहयोग राशि दिया।
इलाहाबाद के दिव्यांग धीरज शुक्ला ने प्रत्येक जोड़ो को एक-एक थाली प्रदान किया जबकि गायत्री परिवार के चन्द्रिका प्रसाद ने कुल 51000 रू0 की सहायता राशि प्रदान किया। उपजिलाधिकारी पट्टी जे0पी0 मिश्र ने प्रत्येक जोड़े को 101 रू0 का नकद सहयोग प्रदान किया। इसके अलावा राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद की ओर से 11000 रू0, बेसिक शिक्षा अधिकारी श्री बी0एन0 सिंह की ओर से 11000 रू0, अधिशासी अभियन्ता जल निगम श्री राजेश खरे ने 5000 रू0, राज्यसभा सांसद श्री प्रमोद तिवारी और लालगंज विधायिका श्रीमती आराधना मिश्रा की ओर से उनके प्रतिनिधि श्री भगौती प्रसाद तिवारी ने 11000 रू0, नगर पंचायत लालगंज की अध्यक्षा श्रीमती अनीता द्विवेदी की ओर से 5100 रू0, जिले की सबसे बड़ी ग्रामसभा के ग्रामप्रधान संजय पटेल ने 5100 रू0 के अलावा बहुत से अधिकारियों और कर्मचारियों द्वारा अनेक समाज सेवी संगठनों द्वारा इस अवसर पर जोड़ो के उत्साह वर्धन हेतु सहायता राशि प्रदान की गयी।
नगर क्षेत्र ही नही बल्कि जनपद की सबसे पुरानी बकरीदी बैण्ड पार्टी द्वारा अतिथियों एवं बारातियों तथा नवदम्पत्तियों के स्वागत में जहां स्वागत गीत की धुन बजायी गयी वहीं शादी के विभिन्न अनुष्ठानो पर द्वार पूजा से लेकर विदायी तक के धुन का प्रदर्शन कर इस बैण्ड पार्टी ने शमा बांध दिया। नेहरू युवा केन्द्र के कलाकारो ने इस अवसर पर अपनी अनेक मनोहारी प्रस्तुतियों द्वारा कार्यक्रम में चार-चांद लगा दिया। प्रसिद्ध लोकगीत पार्टी कल्लू निराला एण्ड पार्टी ने विवाह गीत, विदाई गीत और सबसे दिलचस्प खिचड़ी खाने के अवसर पर गायी जाने वाली ‘‘गाली गीत’’ की प्रस्तुति कर सभी का मनमोह लिया और लोग अपने आपको खिचड़ी की रसम से जोड़े लिये। भोजपुरी शैली में शादी और विदाई का गीत प्रस्तुत कर शिवानी मिश्रा ने खूब तारीफ जुटायी। भानु सिंह द्वारा ‘‘बाबुल की दुवाये लेती जा’’ विदाई गीत के प्रस्तुति और जय किशन रविशंकर द्वारा ‘‘दुल्हे का सेहरा सुहाना लगता है’’ की मनमोहक प्रस्तुति की।
शिवानी मिश्रा, रेखा शुक्ला, समीक्षा सिंह द्वारा पारम्परिक सिंदूरदान गीत की प्रस्तुति वास्तव में सराहनीय रही। शिव पार्वती पर आधारित आकाश त्रिपाठी एण्ड पार्टी द्वारा सामूहिक नृत्य और निधि त्रिपाठी, श्वेता त्रिपाठी ने द्वार पूजा गीत की प्रस्तुति से खूब वाह-वाही लूटी।
वैवाहिक अनुष्ठान के अन्त में मंच पर नवविवाहित दम्पत्तियों को जिलाधिकारी शम्भु कुमार, उनकी पत्नी डा0 स्निग्धा रश्मि, विधायक सदर संगम लाल गुप्ता, विधायक रानीगंज धीरज ओझा, अध्यक्ष नगर पालिका परिषद प्रेमलता सिंह ने अपने पति हरिप्रताप सिंह के साथ मंच पर पुष्प वर्षा के साथ वर-वधू को आर्शीवाद दिया और उन्हें सरकार, जिला प्रशासन, विधायक सदर की ओर से शादी का उपहार प्रदान किया। जिला प्रशासन की ओर से वर और वधू के लिये अलग-अलग कलाई घड़ी, वधू के लिये एक शाल प्रदान किया जबकि पायल, बिछिया, मोबाईल, कन्टेनर व थाली लोटा व अन्य वस्तुये प्रदान की गयी। नोडल अधिकारी जिला समाज कल्याण अधिकारी श्री प्रवीण सिंह ने इस अनुष्ठान में सहायता करने वाले व इस अवसर विशेष पर अपनी उपस्थिति से जिला प्रशासन को सहयोग करने वालो के प्रति आभार प्रदर्शित किया और विशेष रूप से उन्होने ग्राम प्रधान संघ के अध्यक्ष पिन्टू सिंह का विशेष उल्लेख किया कि उन्होने समाचार पत्र में सामूहिक विवाह का विज्ञापन देकर प्रचार-प्रसार में अतिशय योगदान दिया। जिला विद्यालय निरीक्षक के प्रति विशेष आभार प्रदर्शित किया जिनकी बदौलत इस सामूहिक विवाह अनुष्ठान में पूजन कराने वाले आचार्यो की व्यवस्था करायी। इस अनूठे वैवाहिक अनुष्ठान में जिला प्रशासन की ओर से सभी जोड़ों व उनके परिवारीजनों के अलावा समस्त आगन्तुकों के लिये भोजन की व्यवस्था करायी गयी थी।
शादी अनुष्ठान के दौरान विभिन्न मण्डपो का निरीक्षण जिलाधिकारी श् शम्भु कुमार, उनकी पत्नी डा0 स्निग्धा रश्मि के अलावा पुलिस अधीक्षक शगुन गौतम, विधायक सदर संगम लाल गुप्ता, विधायक रानीगंज धीरज ओझा, मुख्य विकास अधिकारी राजकमल यादव, अपर जिलाधिकारी सोमदत्त मौर्य, परियोजना निदेशक अरविंद सिंह, जिला विकास अधिकारी जनार्दन प्रसाद यादव, जिला कार्यक्रम अधिकारी सन्तोष कुमार श्रीवास्तव, जिला पंचायत राज अधिकारी शशिकान्त पाण्डेय, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 आर0के0 नैय्यर आदि की उपस्थिति विशेष रही।