गाँव में घुस कर किया तोड़फोड़ और मारपीट, पुलिस आयी तो ग्रामीणों की बची जान - Pratapgarh Samachar

Breaking

रविवार, 4 मार्च 2018

गाँव में घुस कर किया तोड़फोड़ और मारपीट, पुलिस आयी तो ग्रामीणों की बची जान


प्रतापगढ़| बाग़ में रखी सूखी लकड़ी को बिना किसी अनुमति के जबरन जलाने के कारण विवाद में दर्जनोभर लोगों ने बस्ती में धावा बोलकर मारपीट व सामानों को तोड़फोड़ किया। इस दौरान करीब आधा दर्जन लोगों को मार-मार कर घायल कर दिया। सूचना मिलते ही काफी संख्या में पुलिस फोर्स का मौके पर पहुंचने पर लोगों की जान बच सकी और लोगों  ने सुकों की सांस ली। विवाद में घायलों को अस्पताल में एडमिट कराया गया है।

रानीगंज थाना अंतर्गत आने वाले गाँव चन्दी गोविंदपुर बिंद बस्ती इलाके लोग गांव के निकट स्थित बाग में सूखी लकड़ी रखा था। आरोप है कि बृहस्पतिवार की रात रामदेव पट्टी गांव के लोगों ने सूखी लकड़ी को आग के हवाले कर दिया। वहीं लकड़ियाँ जलता देख बिंद बस्ती के रहिवासी बाग आये और वहां मौजूद लोगो के साथ विवाद होने लगा। आरोप के मुताबित कुछ समय बाद लकड़ी जलाने वाले दर्जनभर लोगों ने कुल्हाड़ी, डंडा, लाठी और असलहे इत्यादि हथियार लेकर बिंद बस्ती के लोगो पर हल्ला बोल दिया। चारपाई, बल्फ, कुर्सी, मेज, मोबाइल फोन आदि को नस्तनाबूत कर डाला। इस झगड़ें के दौरान जो भी सामने आया उसे पीट-पीट कर घायल कर डाला गया। जिसमें 40 वर्षीय उदयराज बिंद, 18 वर्षीय सूरज बिंद, 15 वर्षीय नीरज बिंद, 35 वर्षीय फोटो देवी, 40 वर्षीय कलावती, और 16 साल की कीशोरी कल्पना गंभीर रूप से जख्मी हो गयी।


गाँव वालो ने कॉल कर्केपुलिस को मामले से अवगत कराया जिसके बाद भारी संख्या में पुलिस दल मौके पर पहुंची मगर तब तक आरोपित मौके से भाग गए थे। घायलों को उपचार के लिए सीएचसी रानीगंज में एडमिट कराया गया, जहाँ चिकित्सकों ने उदयराज, सूरज और नीरज की स्थिति की गंभीरता को देखते हुए जिला अस्पताल रेफर कर दिया। इस पूरे वारदात से बिंद बस्ती के लोग काफी डरे-सहमे हुए हैं। मामले में रानीगंज थानाध्यक्ष बी०पी० त्रिपाठी ने मीडिया से वार्ता करते हुए बताया कि बवाल की जानकारी मिलते ही पुलिस फ़ोर्स मौके पर पहुँच गयी थी। जख्मियो को हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया है। पुलिस आरोपों की जांच में जुटी हुई है।