प्रतापगढ़ महोत्सव में प्रधान सम्मेलन, रंगोली/मेंहदी प्रतियोगिता एवं कुश्ती प्रतियोगिता का हुआ आयोजन - Pratapgarh Samachar

Breaking

रविवार, 18 मार्च 2018

प्रतापगढ़ महोत्सव में प्रधान सम्मेलन, रंगोली/मेंहदी प्रतियोगिता एवं कुश्ती प्रतियोगिता का हुआ आयोजन

ग्रामीण क्षेत्र में केन्द्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा चलायी जा रही योजनाओ को जन-जन तक पहुॅचाने में प्रधानगणों की अहम भूमिका-जिलाधिकारी

 
 प्रतापगढ़ महोत्सव में आज तीसरे दिन राजकीय इण्टर कालेज के प्रांगण में प्रधान सम्मेलन, रंगोली/मेंहदी प्रतियोगिता, कुश्ती प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। ग्राम प्रधान सम्मेलन आयोजन के अवसर पर जिलाधिकारी शम्भु कुमार ने अपने सम्बोधन में कहा कि प्रतापगढ़ महोत्सव अब केवल मनोरंजन तक ही सीमित नही रहा बल्कि इस महोत्सव में ग्राम प्रधान सम्मेलन से ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों के लिये केन्द्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा चलायी जा रही कल्याणकारी योजनाओ को ग्रामीण अंचल में जन-जन तक पहुॅचाने में अहम भूमिका निभा रहे है, ग्राम प्रधानगणों को विभिन्न विभागों द्वारा चलायी जा रही योजनाओं की जानकारी देने का माध्यम भी यह महोत्सव बना। ग्रामीण अंचल में ग्राम प्रधान ग्राम पंचायत स्तर पर ग्राम के विकास की जिम्मेदारी उठा लें तो उस ग्रामसभा में विकास का कार्य कभी रूकेगा नही। ग्रामीण अंचल की किसी भी समस्या के समाधान हेतु ग्राम प्रधानगण एक समूह के साथ समस्याओं के निदान हेतु सम्पर्क कर सकते है और उस समस्या का निराकरण त्वरित गति से किया जायेगा। समाज की किसी भी समस्या को समूह बनाकर हल करना हम सबकी जिम्मेदारी है। प्रत्येक व्यक्ति को हर समय सकारात्मक विचार से कार्य करना चाहिये क्योंकि व्यक्ति को सफलता सकारात्मक विचार से ही मिलती है। व्यक्ति को अपने जीवन में नकारात्मक विचार नही रखना चाहिये क्योंकि नकारात्मक विचार से जो कार्य सम्भव होते है वह भी असम्भव हो जाते है। ग्राम प्रधान का प्रथम दायित्व यह होता है कि अपने गांव के अन्दर शिक्षा, स्वास्थ्य और स्वच्छता से सम्बन्धित योजनाओ को प्राथमिकता पर प्रारम्भ करें जिससे ग्रामीण अंचल में पढ़ने वाले छात्र/छात्राओ को गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा मिल सके जिससे वह भविष्य में अपने द्वारा निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त कर सके।

 महोत्सव में आयोजित कुश्ती प्रतियोगिता का शुभारम्भ जिलाधिकारी द्वारा किया गया। कुश्ती प्रतियोगिता के अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा कि कुश्ती प्रतियोगिता का हिस्सा बनने का अवसर मुझे प्राप्त हुआ यह मेरे लिये सुखद का क्षण है। कुश्ती प्रतियोगिताओं में भारत का नाम अन्तर्राष्ट्रीय मंच पर विख्यात है। तत्पश्चात् जिलाधिकारी ने विभिन्न विद्यालय के छात्राओं द्वारा बनायी गयी रंगोलियो का देखा और बच्चो के द्वारा बनायी गयी रंगोलियों की सराहना की। प्राथमिक स्तर, माध्यमिक स्तर के बालिकाओं द्वारा रंगोली बनायी गयी थी जिसमे ंमाध्यमिक स्तर में प्रथम स्थान श्री राम बालिका इण्टर कालेज, प्रतापगढ़, द्वितीय स्थान जवाहर नवोदय विद्यालय नरायनपुर तथा तृतीय स्थान न्यू एन्जिल्स सीनियर सेकेण्ड्ररी स्कूल प्रतापगढ़ और बेसिक स्तर पर प्रथम स्थान यू0पी0एस0 मरूआन, द्वितीय स्थान यू0पी0एस नरहरपुर तथा तृतीय स्थान यू0पी0एस आसपुर का रहा।
 इसी तरह महोत्सव में मेंहदी प्रतियोगिता में माध्यमिक स्तर पर प्रथम स्थान श्रीराम बालिका इण्टर कालेज, प्रतापगढ़, द्वितीय स्थान राजकीय इण्टर बालिका कालेज प्रतापगढ़ तथा तृतीय स्थान न्यू एन्जिल्स सीनियर सेकेण्ड्ररी स्कूल, प्रतापगढ़ का रहा। बेसिक स्तर पर प्रथम स्थान यू0पी0एस0 आसपुर भटान, द्वितीय स्थान यू0पी0एस0 कटरा गुंलाब सिंह तथा तृतीय स्थान के0जी0बी0पी0 पट्टी को मिला। मेहदी आई0सी0डी0एस0 में प्रथम स्थान आदिती सिंह, द्वितीय स्थान दीप्ति तथा तृतीय स्थान काजल सोनी को मिला। महोत्सव में जिलाधिकारी द्वारा 40 दिव्यांगो को ट्राई साइकिल का वितरण किया गया। मेला स्थल पर जयपुर फूट टीम द्वारा दिव्यांगो के लिये कृत्रिम पैर, हाथ भी बनाये जा रहे थे और उनका वितरण भी दिव्यांगो को किया गया। शेष बचे दिव्यांगों को ट्राई साइकिल का वितरण जल्द ही कराया जायेगा। इस अवसर पर जिला समाज कल्याण अधिकारी प्रवीण सिंह, जिला कार्यक्रम अधिकारी सन्तोष कुमार श्रीवास्तव, कैबिनेट मंत्री  मोती सिंह  के प्रतिनिधि विनोद पाण्डेय, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी बी0एन0 सिंह भी उपस्थित रहे।
 प्रतापगढ़ महोत्सव में दिनांक 16 मार्च को रात्रि में एक भव्य कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया जिसमें पद्म श्री सुनील जोगी ने अपने काव्य पाठ में ‘‘देखो मोदी ने बना ली सरकार रसिया’’ का काव्य प्रस्तुत किया तथा इसके अलावा सुनील प्रभाकर, सबीना आदिब (कानपुर), दिनेश बावरा (मुम्बई) और कुमार निर्मलेन्दु (बिहार), प्रमोद प्रियदर्शी, राजन शुक्ला, संगम लाल भौरा, शेखमुंशी रजा, लवलेश यदुवंशी, कमलेश गिरि, डा0 श्याम शंकर शुक्ला आदि ने अपने काव्य के माध्यम से लोगो को मंत्र मुग्ध कर दिया।