प्रतापगढ़ में लव जिहाद ने फैला लिए हैं पांव, थानों की पुलिस पैसों से बिक कर आरोपियों की करती है पूरी मदद - Pratapgarh Samachar

Breaking

शनिवार, 22 सितंबर 2018

प्रतापगढ़ में लव जिहाद ने फैला लिए हैं पांव, थानों की पुलिस पैसों से बिक कर आरोपियों की करती है पूरी मदद



सांगीपुर / प्रतापगढ़ : अपने प्रतापगढ़ में इन दिनों लव जिहाद के कई मामले बढ़ रहे हैं। इसमें पुलिस की नरमी की वजह से पीड़ित पक्ष को न्याय नहीं मिलता है। जबकी लव जिहाद को अंजाम देने वाले खुलेआम घूमते हैं और क्षेत्र के थानों में पुलिस को मोटी रकम खिला देते हैं। जिससे पुलिस बस पीड़ित को वरगलाती रहती है।

  कई मामले तो ऐसे हैं जिनमें नाबालिक लड़की का अपहरण एक विशेष समुदाय द्वारा कर लिया जाता है। उसके बाद उसे लव जिहाद का पुर्णतः शिकार बना लिया जाता है। ऐसा ही एक मामला सांगीपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत हुआ है। यह मामला है कीर्ति पुर गांव पहाड़पुर के पास की राजू सिंह की 13 साल की बच्ची का जिसको आज के 3 साल पहले 13 साल की बच्ची को अगवा कर बाबू तारा के मुस्लिम समुदाय के लोगों ने साजिश करके लव जिहाद के मकसद से अपहरण कर ले गए थे । एक युवक जो मुस्लिम समुदाय से आता है उसका नाम बब्बू है वो बड़ी बड़ी चोरियों को अंजाम देता है साथ ही साथ लव जिहाद चलाता है उसके साथ और कई और लोग इस धंधे में शामिल हैं यही नहीं एक औरत जिसका नाम जुबेदा है वह अन्य धर्म खास कर हिंदू समुदाय की लड़कियों को दिमागी रूप से तैयार करती है और ये सब करवाती है। जिस लड़की का लव जिहाद के मकसद से अपहरण किया गया था उक्त युवती गांव कीर्तिपुर, पहाड़पुर की रहने वाली थी। आज 3 साल उस बच्ची को सांगीपुर में ही पकड़ा गया जो अभी भी नाबालिग है। उक्त नाबालिग बच्ची का पूरा परिवार 3 साल से अपनी बेटी को ढूंढने में परेशान था। पुलिस ने 3 वर्ष बाद आज बच्ची को  खोजा लेकिन क्या इसके पहले पुलिस ने कुछ नहीं किया था किया था खूब किया था परिजनों को गलत सूचना दी जाती रही और तो और उक्त आरोपी जनों को बचाने के एवज में लाखों कमाती रही। जब बच्ची के परिजन  हाई कोर्ट में केश किये तब  हाईकोर्ट ने एसओ को तलब किया। इसके बाद  जब एसओ की नौकरी खतरे में पड़ी तब अब जाकर इन्होंने बच्ची बरामद की । जब परिजन सूचना पाकर थाने गए तो सांगीपुर पुलिस ने बच्ची से उसकी माँ की मिलने तक नहीं दिया।
    परिजनों का आरोप है कि थाने की पुलिस ने मुस्लिम समुदाय से भारी मात्रा में पैसा ले लिए हैं। इनको पैसा लेते समय अपनी बेटी तक की याद नहीं आई। परिजनों का कहना है कि पापियों का साथ देने वाले अफसरों पर घिन आती है कि वह  पैसों पर किसी की भी बेटी की इज्ज़त सरे बाज़ार नीलाम कर देते हैं। यहीं नहीं परिजनों ने बताया कि मुस्लिम समुदाय का युवक किसी के माध्यम से लड़की को भूलने के एवज में परिजनों को 20 लाख रुपये का खुल्ला ऑफर दे रहा था कि बेटी को भूल जाओ लेकिन परिजनों ने अपना ईमान नही बेचा। पागलों की तरह अपनी बेटी को अपराधियों के चंगुल से निकलने के लिए रात दिन दौड़ते रहे। आज जब हाईकोर्ट की फटकार की वजह से दोषी पकड़े गए तो पुलिस वालों ने सभी दोषियों को पैसा लेकर छोड़ दिया और लड़की को थाने में रख लिया।
पुलिस द्वारा मुख्य आरोपी को गिरफ्तार न करने के कारण परिजनों ने आज शनिवार को सांगीपुर थाने का घेराव किया  साथ ही साथ सांगीपुर बाज़ार में जाम लगा दिया।  प्रशासन के खिलाफ हुई नारेबाजी।
      सी.ओ. लालगंज के समझाने व आरोपियों के खिलाफ जल्द ही सख्त कार्यवाही करते हुए गिरफ्तार करने के आश्वासन पर खत्म हुआ जाम | पीड़ित पिता ने फिर से आरोपियों के खिलाफ थाने मे दी तहरीर।
  अब देखना यह है कि पुलिस क्या गुल खिलाती है।